सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

NANAJI DEKHMUKH

               राष्ट्र-ऋषि नानाजी देशमुख

             अब से सौ वर्ष पूर्व 11 अक्टूबर 1916 को शरद पूर्णिमा को नानाजी देशमुख का जन्म हुआ। उनके पिताजी का नाम अमृतराव देशमुख और माताजी का नाम राजाबाई था।

             1939 में वे राजस्थान के पिलानी बिड़ला कॉलेज में अध्ययन के लिए गए। कॉलेज में उनके नेतृत्व के गुण तथा उनमें छिपी हुई अपार क्षमता के कारण कॉलेज के संस्थापक सेठ घनश्याम दास बिड़ला ने कॉलेज के प्रिंसिपल से अनुमति लेकर
अपने निजी सहायक के रूप में नियुक्ति दी।
           1945 में तृतीय वर्ष शिक्षण पूरा करके वे गोरखपुर विभाग में संघ-कार्य में जुट गए। 30 जनवरी 1948 को गांधी जी की हत्या हुई। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर प्रतिबंध लगा दिया गया। गौरखपुर में नानाजी को भी गिरफ्तार किया गया।
शिक्षा एवं ज्ञान के प्रति नानाजी का गहरा लगाव ही था जिसके कारण उनकी प्रेरणा से  1952 मे गोरखपुर (उतर प्रदेश ) में देश का पहला सरस्वती शिशु मंदिर स्थापित  किया गया। इस प्रेरणा से ही चित्रकूट जैसे पिछड़े प्रामीण इलाके में समग्र विकास  का लक्ष्य लेकर उन्होंने दीनदयाल शोध संस्थान के माध्यम से ग्राम विकास को अपना सपूर्ण जीवन समर्पित कर दिया। चित्रकूट मे ही देश के प्रथम विश्वविद्यालय की स्थापना कर उसके प्रथम कुलपति का दायित्व भी उन्होंने निभाया।
             नानाजी ने 93 साल की उम्र तक दीनदयाल शोध संस्थान के अपने सहयोगी के साथ मध्य  भारत के 500 पिछड़े ग्रामों के पूर्ण विकसित एवं सशक्त बनाने का सफल प्रमोग किया। 
          कर्म नानाजी का साक्षात ईश्वर था, वह साक्षात दीनदयाल थे। शनिवार 27,फरवरी 2010 को उनका शरीर शान्त हो गया।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

लाला झनकुमन

                     लाला झनकुमन                   मई 1857 की मेरठ सें फेली क्रान्ति की चिंगारी नें शहीद भूमि धौलाना को भी अपनी चपेट मे ले लिया था । जिसमे कस्बे के  14 रणबाकुरों नें अपनी शाहदत दी थी । उनकी याद में 11 मई को  क्षेत्रवासी 14 अमर वीरो को श्रद्वा सुमन अर्पित करेगे। 11 मई   1857 कों लाला झनकुमल की टोली नें अमर शहीद पडिंत मंगल पाडेण्य  द्वारा सुलगाई आजादी की जंग में साथ देते हुए पुरानें अग्रेजी  थानें को घेर कर उसमें आग लगा दी थी। और उस जलती आग में केई अग्रेजी को स्वाह कर दिया था।                       उस समय धौलाना मेरठ  जिलें की तहसील हुआ करती थी। और अग्रेजो का धौलाना कस्बे में हेडक्वाटर था। कों आग के हवालें कर राष्ट्र विरोधी सारें दस्तावेजों  को जला दिये थे। उस 11मई 1857 को लाला झनकूमल व  उनकी टोली ने कस्बें सें सभी अग्रेंजो को या तों खदेड दिया था। या  फिर मार गिराया था । इस टोली में वेश्य गौरव क्रान्तिकारियों के  भामाशाह लाला झनकुमल ने भी बढ चढ कर हिस्सा ले अग्रेजी जडों  की चूलें हिला रहे थे।                    11 मई को कस्बे में पूरे दिन हर हर महादेव के न

कैसे बने तृतीय सिख गुरु अमरदास जी?

कैसे बने तृतीय सिख गुरु अमरदास जी? तृतीय सिख गुरु अमरदास जी ने बासठ वर्ष की उम्र तक कोई गुरु न किया। उन्हें  जब यह ज्ञात हुआ कि गुरु के बिना ज्ञान नहीं होता तो उन्होंने गुरु अंगद देव जी से दीक्षा ली। वे बड़े भोर उठकर तीन कोस दूर नदी से गुरु के स्नानार्थ जल ले आते ।                    @copyright image                   एक अँधेरी रात में जल लेकर लौट रहे थे तो रास्ते में जुलाहे की खड्डी से उनका  पाँव टकरा गया और वे गिर पड़े। जुलाहा जाग उठा और पत्नी से बोला-                                "देख तो कौन गिर पड़ा खड्डी में ?" जुलाहिन ने कहा-" और कौन होगा, वही अनाथ  अमरू जो आधी रात में गुरु की खिदमत के लिए उठ जाता है।" प्रात:काल गुरु  अंगद देव जी ने यह वात्त्ता सुनी। उन्होंने सिखों के दरबार में विह्वल कंठ से रात की  घटना बताई और अमरदास जी को गले लगाकर बोले-"यह अमरू अनाथ नहीं , बल्कि सिखों का स्वामी है। सेवा धर्म का पालन करने के कारण यह गुरुगद्दी  का अधिकारी है।" जिस स्थान पर गुरु अमरदास ठोकर खाकर गिरे थे,                    वहाँ आज

जगत सेठ राम जी

                     जगत सेठ राम जी              वह आधुनिक भामाशाह थे, जिनके दिल में देश की आजादी के लिए  तड़प थी और जो न केवल अरबों रुपयों की संपत्ति देश की आजादी  के लिए व्यय करने को तैयार थे अपितृ उनके मस्तिष्क में गुप्तचर विभाग और सैन्य संगठन की योजनाएँ भी थीं। उनका नाम  था जगत् सेठ राम जी दास गुड़वाला। सेठ  रामजीदास गुड़वाला का सम्मान भारत के अंतिम मुगल सम्राट  बहादुर शाह जफर के दरबार में बहुत अधिक था। उन्हें शासन  की ओर से कई उपाधियाँ दी गई थीं और दरबार में उनके  वैठने के लिए विशेष आसन की व्यवस्था की जाती थी।                     उनके रहने के मकान में भी फौज की विशेष व्यवस्था होती थी। दीपावली  के समय सेठजी अपने धर पर जश्न मनाते थे, जिसमें मुगल  सम्राट बहादुर शाह स्वयं उपस्थित रहते थे और सेठ साहब सम्राट को दो लाख अशफियां का नजराना भेंट करते थे।                      उस समय सम्राट बहादुर शाह जफर के दरबार में अधिकांश दरबारी  स्वार्थी व अय्याश थे तथा वे स्वयं चाहते थे कि सल्लनत हो और  उन्हें कुछ बनने का मौका मिले। सेठ रामजीदास गुड़वाला ने कई  बार करोड़ों रुपये बहादुर शा