सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Ramanujan charya guru

                    श्री रामानुजाचार्य

              आज से हजार साल पहले सन 1017 में तमिलनाडु के श्रीपेरंबदूर गांव में रामानुजाचार्य जी का जन्म हुआ । वैष्णव धर्म का प्रसार करने वाले श्री रामानुजाचार्य जी का जीवन मानवता और भक्तिरसपूर्ण था।


                     रामानुजाचार्य जी ने पाँच आचार्यों से अलग-अलग विषय का ज्ञान प्राप्त किया, इन आचार्यों में एक गोष्ठीपूर्ण स्वामी थे जिन्होंने दीक्षा देने के पूर्व एक मंत्र उनके कानों में कहा के यह रहस्यमंत्र है तथा यह सुननेवाला स्वर्ग सुख पाएगा।
इस मंत्र को पाने के थोड़े ही समय बाद श्रीरामानुजाचार्य नरसिंह स्वामी रहे थे। तभी वहां भीड़ देख वे एक ऊँची जगह पर खड़े होकर मंदिर के पास गुजर उस रहस्यमयमंत्र का जोर-जोर से उच्चारण करने लगे तथा लोगों से भी उस मंत्र का
उच्चारण करवाने लगे। 
              यह बात उनके गुरु तक पहुंची तो उन्होंने तुरंत आकर रामानुज को डांट कर कहा कि क्या गुरु आज्ञा का अर्थ उन्हें पता नहीं? और क्यूँ गुरु की आज्ञा का पालन ना करते हुए उन्होंने वह रहस्य मंत्र सबको सुनाया।
           तब रामानुज ने जो कहा वो उनके चरित्र की गरिमा बढ़ाने वाला है। उन्होंने कहा कि गुरु आज्ञा का पालन न करने हेतु उन्हें नरक में जाना पड़ेगा मगर यदि उस मंत्र को सुनने से स्वर्ग मिलता है तो वे अपने बन्धु/भगिनियों को यह स्वर्ग सुख मिलता
देख बहुत खुश हैं। फिर चाहे उन्हें नरक मिले तो भी कोई बात नहीं। मगर फिर भी उन्होंने गुरु आज्ञा का पालन न करने के लिए क्षमा भी मांगी तथा दंडित होना भी स्वीकार किया। ऐसे थे रामानुजाचार्य जी। सदा समाज की भलाई के बारे में सोचने वाले।
दृढ़ परन्तु बिनम्र।
             सन् 1099 में उन्होंने मेलुकोट में ऐसे मंदिर का निर्माण किया जिसमें जाति के आधार पर किसी व्यक्ति के भी मंदिर प्रवेश को नकारा नहीं जाता।
120 वर्ष की आयु में सन् 1137 मेंश्री रामानुजाचार्य का निर्वाण हो गया।
                 मगर अपने पीछे एक सगुणभक्ति से ओतप्रोत भरा वैष्णव समाज मानवता की सेवा
करने के लिए छोड़ गये।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

लाला झनकुमन

                     लाला झनकुमन 
                 मई 1857 की मेरठ सें फेली क्रान्ति की चिंगारी नें शहीद भूमि धौलाना को भी अपनी चपेट मे ले लिया था । जिसमे कस्बे के 14 रणबाकुरों नें अपनी शाहदत दी थी । उनकी याद में 11 मई को क्षेत्रवासी 14 अमर वीरो को श्रद्वा सुमन अर्पित करेगे। 11 मई1857 कों लाला झनकुमल की टोली नें अमर शहीद पडिंत मंगल पाडेण्य द्वारा सुलगाई आजादी की जंग में साथ देते हुए पुरानें अग्रेजी थानें को घेर कर उसमें आग लगा दी थी। और उस जलती आग में केई अग्रेजी को स्वाह कर दिया था।                       उस समय धौलाना मेरठ जिलें की तहसील हुआ करती थी। और अग्रेजो का धौलाना कस्बे में हेडक्वाटर था। कों आग के हवालें कर राष्ट्र विरोधी सारें दस्तावेजों को जला दिये थे। उस 11मई 1857 को लाला झनकूमल व उनकी टोली ने कस्बें सें सभी अग्रेंजो को या तों खदेड दिया था। या फिर मार गिराया था । इस टोली में वेश्य गौरव क्रान्तिकारियों के भामाशाह लाला झनकुमल ने भी बढ चढ कर हिस्सा ले अग्रेजी जडों की चूलें हिला रहे थे।                    11 मई को कस्बे में पूरे दिन हर हर महादेव के नारे गुजामयन रहे। और पकडों मारो वो …

कैसे बने तृतीय सिख गुरु अमरदास जी?

कैसे बने तृतीय सिख गुरु अमरदास जी?

तृतीय सिख गुरु अमरदास जी ने बासठ वर्ष की उम्र तक कोई गुरु न किया। उन्हें जब यह ज्ञात हुआ कि गुरु के बिना ज्ञान नहीं होता तो उन्होंने गुरु अंगद देव जी से दीक्षा ली। वे बड़े भोर उठकर तीन कोस दूर नदी से गुरु के स्नानार्थ जल ले आते

                   @copyright image
                  एक अँधेरी रात में जल लेकर लौट रहे थे तो रास्ते में जुलाहे की खड्डी से उनका पाँव टकरा गया और वे गिर पड़े। जुलाहा जाग उठा और पत्नी से बोला-                                "देख तो कौन गिर पड़ा खड्डी में ?" जुलाहिन ने कहा-" और कौन होगा, वही अनाथ अमरू जो आधी रात में गुरु की खिदमत के लिए उठ जाता है।" प्रात:काल गुरु अंगद देव जी ने यह वात्त्ता सुनी। उन्होंने सिखों के दरबार में विह्वल कंठ से रात की घटना बताई और अमरदास जी को गले लगाकर बोले-"यह अमरू अनाथ नहीं, बल्कि सिखों का स्वामी है। सेवा धर्म का पालन करने के कारण यह गुरुगद्दी का अधिकारी है।" जिस स्थान पर गुरु अमरदास ठोकर खाकर गिरे थे,                    वहाँ आज भी विशाल गुरुद्वारा उनकी निष्ठा का यश सुनाता ह…

जगत सेठ राम जी

                     जगत सेठ राम जी

             वह आधुनिक भामाशाह थे, जिनके दिल में देश की आजादी के लिए तड़प थी और जो न केवल अरबों रुपयों की संपत्ति देश की आजादी के लिए व्यय करने को तैयार थे अपितृ उनके मस्तिष्क में गुप्तचर विभाग और सैन्य संगठन की योजनाएँ भी थीं। उनका नाम था जगत् सेठ राम जी दास गुड़वाला। सेठ रामजीदास गुड़वाला का सम्मान भारत के अंतिम मुगल सम्राट बहादुर शाह जफर के दरबार में बहुत अधिक था। उन्हें शासन की ओर से कई उपाधियाँ दी गई थीं और दरबार में उनके वैठने के लिए विशेष आसन की व्यवस्था की जाती थी।                     उनके रहने के मकान में भी फौज की विशेष व्यवस्था होती थी। दीपावली के समय सेठजी अपने धर पर जश्न मनाते थे, जिसमें मुगल सम्राट बहादुर शाह स्वयं उपस्थित रहते थे और सेठ साहब सम्राट को दो लाख अशफियां का नजराना भेंट करते थे।                      उस समय सम्राट बहादुर शाह जफर के दरबार में अधिकांश दरबारी स्वार्थी व अय्याश थे तथा वे स्वयं चाहते थे कि सल्लनत हो और उन्हें कुछ बनने का मौका मिले। सेठ रामजीदास गुड़वाला ने कई बार करोड़ों रुपये बहादुर शाह जफर को इसलिए दिए कि वे एक सुसं…