सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

veer Banda Singh bahadur

         वीर बंदा बैरागी सिंह बहादुर


              वीर बंदा सिंह बहादुर का जन्म17 अक्तुबर सन् 1670 ई. (कार्तिक शुक्ल संवत 1727 ) को कश्मीर के पूंछ जनपद के राजौरी नामक स्थान पर हुआ था। इनका वास्तविक नाम लक्ष्मणदेव धा। 



           इनके पिता का नाम रामदेव था। लक्ष्मण देव बचपन के ही बहुत साहसी और बीर भे। शिकार खेलना उनको प्रिय लगता था। एक दिन हिरण का शिकार करते समय युवा लक्ष्मण देव के मन में अचानक करुणा जाग्रत हो उठी। उन्होंने उसी क्षण तलवार और घनुषवाण को त्याग कर संन्यास ले लिया और तपस्था करने के लिए हिमालय की उपत्यकाओं में जा बसे। वहाँ उनकी भेंट वैरागी
साधू जानकौदास जी से हुई जिसने इन्हें माधोदास नाम देकर ईश्वर भक्ति करने के
लिए प्रेरित किया।
             इसी समय पंजाब में गुरुनानक देव जी की गद्दी पर दशम गुरु के रूप में गुरु गोविन्द राय विराजमान हुए और उन्होंने हिन्दू धर्म की रक्षा के लिए सन् 1699 ई. में खालसा पथ की स्थापना कर शास्त्र तेज को शस्त्र तेज से जोड़ दिया तथा
स्थान-स्थान पर खालसा हिन्दू धर्म की रक्षा के लिए उठ खड़े हुए ।
                       गुरु गोविन्द सिंह जी की नांदेड में माधोदास से भेंट हुई । गुरु गोविन्द सिंह ने जब देश में मुगलों के अत्याचार और हिन्दुओं की दुर्दशा का वर्णन किया तो माधोदास का क्षात्र तेज जाग उठा और उन्होंने हिन्दुओं की रक्षा के लिए पुन: हथियार
उता लिए। गुरु गोविन्द सिंह ने उन्हें पंजाब जाकर हिन्दुओं की रक्षा के लिए प्रेरित किया और पाँच खालसा सिख और पाँच बाण युद्ध के लिए भेंट किए। माधोदास अब गुरु का बंदा हो गया| बैरागी तो वह था ही। इस प्रकार अब वह बन्दा बैरागी बन गए।
तत्पश्चात शस्त्र हाथ में लेकर मुगलों से संघर्ष प्रारम्भ किया सबसे पहले उसने हरियाणा प्रांत के समाना दुर्ग को जीता और गुरु गोविन्द सिंह को धोखा देकर सिरसा में उन पर आक्रमण करने वाले हसन अली पठान का वध किया। 
              अपने पराक्रम से वह बन्दा सिंह बहादुर बन गए। सरहिन्द के नवाब ने अपने दो सेनानायकों को पाँच हेजार सेना देकर रोपड में बन्दा बैरागी का सामना करने भेजा। इस युद्ध में वीर बन्दा सिंह बहादुर ने पूरी सेना को धूल चटा कर दोनों सेनानायकों का वध कर दिया। इससे उनकी क्षमता बहुत अधिक बढ़ गई और उसने सरहिन्द दुर्ग पर आक्रमण करके गुरु पुत्रों के बलिदान का बदला ले लिया।
                दिल्ली की गद्दी पर फरुखसियर शासक बना। फरुखसियर अपने सेनापति नदखा के साथ गुरदासपुर की ओर बढ़ा और उसने दुर्ग को चारों ओर से घेर लिया। में खाने-पीने की सामग्री खत्म होते ही दुर्ग का द्वार खोलने के अलावा और कोई
ने रहा फलतः सवत् 1776 में स्वयं बंदा सिंह बहादुर ने दुर्ग के द्वार खोलकर अपने धनुष बाण नीचे रखकर मुगलों को बुलाकर स्वयं अपने को गिरफ्तार कराया।
            एक लोहे के पिंजरे में बंदी बनाकर अब्दुल समन्दखाँ बंदा सिंह बहादुर को लेकर दिल्ली की ओर चल पडा। लाल किले में फरुखसियर ने उनसे इस्लाम स्वीकार करने पर जीवनदान देने के लिए कहा तो बंदा सिंह बहादुर ने उसके मुँह पर थूक दिया
और किसी भी स्थिति में इस्लाम स्वीकार नहीं करने की हुँकार भरी। 
                  बौखलाये हुए फरुखसियर ने जल्लाद से कहा कि इसके जिस्म से माँस की बोटी-बोटी नौच ली जावे और जल्लाद ने सलाख गरम कर वीर बंदा सिंह बहादुर के जिस्म को जला जला कर उसके शरीर का पूरा माँस गला दिया और अंत में उसके पिंजर को हाथी के पांव से बांधकर उसे दौड़ाया गया और इस प्रकार भारत माता के इस सपूत का शरीर माता की गोद में बिखर गया।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

लाला झनकुमन

                     लाला झनकुमन                   मई 1857 की मेरठ सें फेली क्रान्ति की चिंगारी नें शहीद भूमि धौलाना को भी अपनी चपेट मे ले लिया था । जिसमे कस्बे के  14 रणबाकुरों नें अपनी शाहदत दी थी । उनकी याद में 11 मई को  क्षेत्रवासी 14 अमर वीरो को श्रद्वा सुमन अर्पित करेगे। 11 मई   1857 कों लाला झनकुमल की टोली नें अमर शहीद पडिंत मंगल पाडेण्य  द्वारा सुलगाई आजादी की जंग में साथ देते हुए पुरानें अग्रेजी  थानें को घेर कर उसमें आग लगा दी थी। और उस जलती आग में केई अग्रेजी को स्वाह कर दिया था।                       उस समय धौलाना मेरठ  जिलें की तहसील हुआ करती थी। और अग्रेजो का धौलाना कस्बे में हेडक्वाटर था। कों आग के हवालें कर राष्ट्र विरोधी सारें दस्तावेजों  को जला दिये थे। उस 11मई 1857 को लाला झनकूमल व  उनकी टोली ने कस्बें सें सभी अग्रेंजो को या तों खदेड दिया था। या  फिर मार गिराया था । इस टोली में वेश्य गौरव क्रान्तिकारियों के  भामाशाह लाला झनकुमल ने भी बढ चढ कर हिस्सा ले अग्रेजी जडों  की चूलें हिला रहे थे।                    11 मई को कस्बे में पूरे दिन हर हर महादेव के न

कैसे बने तृतीय सिख गुरु अमरदास जी?

कैसे बने तृतीय सिख गुरु अमरदास जी? तृतीय सिख गुरु अमरदास जी ने बासठ वर्ष की उम्र तक कोई गुरु न किया। उन्हें  जब यह ज्ञात हुआ कि गुरु के बिना ज्ञान नहीं होता तो उन्होंने गुरु अंगद देव जी से दीक्षा ली। वे बड़े भोर उठकर तीन कोस दूर नदी से गुरु के स्नानार्थ जल ले आते ।                    @copyright image                   एक अँधेरी रात में जल लेकर लौट रहे थे तो रास्ते में जुलाहे की खड्डी से उनका  पाँव टकरा गया और वे गिर पड़े। जुलाहा जाग उठा और पत्नी से बोला-                                "देख तो कौन गिर पड़ा खड्डी में ?" जुलाहिन ने कहा-" और कौन होगा, वही अनाथ  अमरू जो आधी रात में गुरु की खिदमत के लिए उठ जाता है।" प्रात:काल गुरु  अंगद देव जी ने यह वात्त्ता सुनी। उन्होंने सिखों के दरबार में विह्वल कंठ से रात की  घटना बताई और अमरदास जी को गले लगाकर बोले-"यह अमरू अनाथ नहीं , बल्कि सिखों का स्वामी है। सेवा धर्म का पालन करने के कारण यह गुरुगद्दी  का अधिकारी है।" जिस स्थान पर गुरु अमरदास ठोकर खाकर गिरे थे,                    वहाँ आज

जगत सेठ राम जी

                     जगत सेठ राम जी              वह आधुनिक भामाशाह थे, जिनके दिल में देश की आजादी के लिए  तड़प थी और जो न केवल अरबों रुपयों की संपत्ति देश की आजादी  के लिए व्यय करने को तैयार थे अपितृ उनके मस्तिष्क में गुप्तचर विभाग और सैन्य संगठन की योजनाएँ भी थीं। उनका नाम  था जगत् सेठ राम जी दास गुड़वाला। सेठ  रामजीदास गुड़वाला का सम्मान भारत के अंतिम मुगल सम्राट  बहादुर शाह जफर के दरबार में बहुत अधिक था। उन्हें शासन  की ओर से कई उपाधियाँ दी गई थीं और दरबार में उनके  वैठने के लिए विशेष आसन की व्यवस्था की जाती थी।                     उनके रहने के मकान में भी फौज की विशेष व्यवस्था होती थी। दीपावली  के समय सेठजी अपने धर पर जश्न मनाते थे, जिसमें मुगल  सम्राट बहादुर शाह स्वयं उपस्थित रहते थे और सेठ साहब सम्राट को दो लाख अशफियां का नजराना भेंट करते थे।                      उस समय सम्राट बहादुर शाह जफर के दरबार में अधिकांश दरबारी  स्वार्थी व अय्याश थे तथा वे स्वयं चाहते थे कि सल्लनत हो और  उन्हें कुछ बनने का मौका मिले। सेठ रामजीदास गुड़वाला ने कई  बार करोड़ों रुपये बहादुर शा